Types of Millets in Hindi | मिलेट्स क्या है तथा इसके प्रकार

10 Millets Name in Hindi | 10 बाजरा के नाम हिंदी में

1. कंगनी बाजरा (Foxtail Millet)
2. बाजरा (Pearl Millet)
3. पुनर्वा बाजरा (Proso Millet)
4. रागी (Finger Millet)
5. सांवा या सनवा बाजरा (Barnyard Millet)
6. कोदो बाजरा (Kodo Millet)
7. छोटी कंगनी / हरी कंगनी बाजरा (Browntop Millet)
8. कुटकी बाजरा (Little Millet)
9. बार्नयार्ड बाजरा (Barnyard Millet)
10. कुटकी बाजरा (Kutki Millet)

इस लिख में मिलेट्स से सम्बंधित जानकारी मिलेट्स क्या है (Millet in hindi) तथा इसके प्रकार (Types of Millets in hindi) जैसे की पुनर्वा बाजरा (proso millet), ज्वार (Sorghum),बाजरा (pearl millet), रागी (Finger Millet), सांवा या सनवा बाजरा (barnyard millet), कोदो बाजरा (kodo millet), छोटी कंगनी / हरी कंगनी बाजरा  (browntop millet), कंगनी बाजरा (foxtail millet), कुटकी बाजरा (Little millet), कुटकी बाजरा (kutki millet), कंगनी बाजरा (kangni millet), सकारात्मक बाजरा (positive millet), रागी बाजरा (ragi millet), सामा बाजरा (sama millet),  समई बाजरा (samai millet), ज्वार बाजरा (jowar millet), आदि की जानकारी दी गई है।

मिलेट्स आजकल बहुत चर्चा मे आ रहे हैं। मिलेट्स  छोटे-छोटे अनाज होते हैं जिनका उपयोग रसोई में बनाये जाने वाले विभिन्न व्यंजनों में होता है। मिलेट्स के  उत्पादन में भारत अग्रणी देश है। इस आलेख में हम मिलेट्स के बारे में विस्तार से जानेंगे और इनके प्रकारों पर ध्यान देंगे। आइए, हम पहले इनका अर्थ और महत्व समझें।

मिलेट्स का अर्थ और महत्व | What is Millets in hindi

मिलेट्स शब्द का उग्रीक शब्द “μῖλος” से निर्मित है, जिसका अर्थ होता है “होंठ”। मिलेट्स के अनेक प्रकार होते हैं (different types of millets in hindi) जैसे फिंगर मिलेट, क्वीन मिलेट, फॉक्सटेल मिलेट, बाजरा, जौ, कोंकणी, रागी आदि। ये अनाज सारे मानवीय शरीर के लिए बहुत ही पोषणयुक्त होते हैं और इसलिए आजकल लोग इन्हें अपने आहार में शामिल कर रहे हैं। मिलेट्स में फाइबर, प्रोटीन, विटामिन, और खनिज पदार्थों का अच्छा स्रोत होता है। ये खाद्य पदार्थ बीमारियों से बचाव में मदद करते हैं और स्वस्थ जीवनशैली को बढ़ावा देते हैं।

विभिन्न प्रकार के मिलेटस | Different Types of Millets in Hindi | Millet in hindi name

मिलेट्स के कई प्रकार होते हैं जो भारतीय खाद्य पदार्थों में व्यापक रूप से उपयोग होते हैं। हम यहां कुछ प्रमुख मिलेट्स के बारे में जानेंगे:

1. कंगनी बाजरा (Foxtail Millet)

2. बाजरा (Pearl Millet)

3. पुनर्वा बाजरा (Proso Millet)

4. रागी (Finger Millet)

5. सांवा या सनवा बाजरा (Barnyard Millet)

6. कोदो बाजरा (Kodo Millet)

7. छोटी कंगनी / हरी कंगनी बाजरा (Browntop Millet)

8. कुटकी बाजरा (Little Millet)

9. बार्नयार्ड बाजरा (Barnyard Millet)

10. कुटकी बाजरा (Kutki Millet)

11. पॉजिटिव मिलेट (Positive Millet)

12. कंगनी बाजरा (Kangni Millet)

13. ज्वार बाजरा (Sorghum Millet)

14. समई बाजरा (Samai Millet)

15. ज्वार बाजरा (Jowar Millet)

1.कंगनी बाजरा (Foxtail Millet)

कंगनी बाजरा (Foxtail Millet) एक छोटा और सफेद रंग का मिलेट है और जिसे हिंदी में खुरमुरा बाजरा कहा जाता है, एक प्रमुख मिलेट है  इसे खाद्यान के रूप में उगाया जाता है। यह विटामिन, प्रोटीन, और फाइबर की अच्छी मात्रा होती है। कंगनी बाजरा को उपमा, पुलाव, और खिचड़ी के रूप में सेवन किया जा सकता है। यह पाचन को सुधारता है, मोटापे को कम करता है, और हड्डियों को मजबूत बनाता है।

2. बाजरा (Pearl Millet)

बाजरा (Pearl Millet) एक मधुर स्वाद वाला मिलेट है यह आहार में प्राकृतिक और पौष्टिकता से भरपूर होता है जिसमे कैल्शियम, आयरन, विटामिन, और प्रोटीन से भरपूर होता है। बाजरा को रोटी, खिचड़ी, और नमकीन में शामिल किया जा सकता है। यह पाचन को सुधारता है, डायबिटीज को नियंत्रित करता है, और हृदय स्वास्थ्य को बढ़ाता है।

3. पुनर्वा बाजरा (Proso Millet)

पुनर्वा बाजरा (Proso Millet) एक सफेद रंग का मिलेट है यह मुख्य रूप से रोटी, पोहा, और उपमा के रूप में खाया जाता है। यह प्राकृतिक रूप से ग्लूटेन-मुक्त होता है और प्रोटीन, फाइबर, और विटामिन का अच्छा स्रोत है। प्रोसो मिलेट आपके हृदय स्वास्थ्य को बनाए रखता है, शरीर के लिए ऊर्जा प्रदान करता है, और पाचन को सुधारता है। इसे भुने हुए बाजरे, पुलाव, और सांभर राइस के रूप में उपयोग किया जा सकता है।

4. रागी (Finger Millet)

रागी (Finger Millet) एक काले रंग का मिलेट है और इसे खाद्यान के रूप में उगाया जाता है। यह ग्लूटेन-मुक्त होता है और उच्च पोषणात्मक मान के कारण ज्यादातर शारीरिक सक्रियताओं के लिए अच्छा माना जाता है।  रागी मिलेट दिल के स्वास्थ्य को सुधारता है इसमे प्रोटीन, कैल्शियम, आयरन, और विटामिन की अच्छी मात्रा होती है। इसे रोटी, डोसा, और हलवा के रूप में खाया जा सकता है। रागी स्नायु स्वास्थ्य को बढ़ाता है, डायबिटीज को नियंत्रित करता है, और शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है।

5. सांवा या सनवा बाजरा (Barnyard Millet)

सांवा बाजरा (Barnyard Millet) एक छोटा सफेद रंग का मिलेट है  जिसे हिंदी में सामक बाजरा भी कहते हैं, एक छोटा और सफेद रंग का मिलेट है। यह ग्लूटेन-मुक्त होता है और विटामिन, प्रोटीन, और आयरन से भरपूर होता है। सांवा बाजरा को खिचड़ी, पुलाव, और उपमा के रूप में सेवन किया जा सकता है। यह पेट स्वास्थ्य को सुधारता है, मोटापे को कम करता है, और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाता है।

6. कोदो बाजरा (Kodo Millet)

कोदो बाजरा (Kodo Millet) एक छोटा और गहरे रंग का मिलेट है जिसे हिंदी में कोद्रा बाजरा भी कहते हैं, एक छोटा और सफेद रंग का मिलेट है। यह विटामिन, प्रोटीन, फाइबर, और कैल्शियम की अच्छी मात्रा होती है। कोदो बाजरा को रोटी, खिचड़ी, और पायसम के रूप में सेवन किया जा सकता है। यह पाचन को सुधारता है, शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है, और शरीर की मांसपेशियों को मजबूत बनाता है।

7. छोटी कंगनी / हरी कंगनी बाजरा (Browntop Millet)

छोटी कंगनी बाजरा (Browntop Millet) एक छोटा सफेद रंग का मिलेट है और यह खाद्यान के रूप में उगाया जाता है। यह मुख्य रूप से पोहा, पुलाव, और सूप के रूप में खाया जाता है। छोटी कंगनी बाजरा में प्रोटीन, आयरन, और विटामिन की अच्छी मात्रा होती है। यह उच्च पोषणात्मक मान का स्रोत होता है, पेट स्वास्थ्य को सुधारता है, और सुन्दर त्वचा को प्राप्त करने में मदद करता है।

8. कुटकी बाजरा (Little Millet)

कुटकी बाजरा (Little Millet) एक छोटा और सफेद रंग का मिलेट है  जिसे हिंदी में कुतकी बाजरा या हरी कंगनी बाजरा भी कहा जाता है, एक छोटा और गहरे हरे रंग का मिलेट है। इसमे प्रोटीन, आयरन, फाइबर, और कैल्शियम की अच्छी मात्रा होती है। कुटकी बाजरा को उपमा, रोटी, और पुलाव के रूप में सेवन किया जा सकता है। यह मस्तिष्क स्वास्थ्य को सुधारता है, हड्डियों को मजबूत बनाता है, और शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है।

9. बार्नयार्ड बाजरा (Barnyard Millet)

बार्नयार्ड बाजरा (Barnyard Millet) एक पौष्टिक अनाज है जिसमें प्रोटीन, फाइबर और विटामिन की अच्छी मात्रा होती है। यह एक सुपरफूड के रूप में मान्यता प्राप्त करता है क्योंकि इसमें पोषक तत्वों की समृद्धि होती है जो हमारे शारीर के लिए आवश्यक होती है। बार्नयार्ड बाजरा खाद्य संगठनों में उपयोग होता है और इसे अलग-अलग व्यंजनों में शामिल किया जा सकता है, जैसे कि पुलाव, खिचड़ी और रोटी। इसका नियमित सेवन हड्डियों को मजबूत बनाने, शरीर को ऊर्जा प्रदान करने और आंत्र को स्वस्थ रखने में मदद करता है।

10. कुटकी बाजरा (Kutki Millet)

कुटकी बाजरा (Kutki Millet) मध्य प्रदेश और राजस्थान में प्रमुख रूप से उगाया जाने वाला मिलेट है। यह छोटा, सफेद और ब्राउन रंग का होता है और गेहूं के चावल के समान उपयोग होता है। कुटकी बाजरा में आयरन, फाइबर, प्रोटीन, और विटामिन की अच्छी मात्रा होती है। यह मोटापे, मधुमेह, उच्च रक्तचाप, और मोटापा को कम करने में मदद कर सकता है। इसका सेवन पेट को भरने में मदद करता है, पाचन को सुधारता है और सेहतमंद वजन प्रबंधन करने में सहायता प्रदान करता है।

11. पॉजिटिव मिलेट (Positive Millet)

पॉजिटिव मिलेट (Positive Millet), जिसे हिंदी में सवा बाजरा भी कहा जाता है, एक छोटा और सफेद रंग का मिलेट है। यह आहार में प्रोटीन, फाइबर, विटामिन, और खनिजों की अच्छी मात्रा होती है। पॉजिटिव मिलेट पाचन को सुधारता है, शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है, और मस्तिष्क स्वास्थ्य को सुधारता है। इसे पांग, उपमा, और पुलाव के रूप में उपयोग किया जा सकता है।

12. कंगनी बाजरा (Kangni Millet)

कंगनी बाजरा (Kangni Millet) को फिंगर मिलेट भी कहा जाता है और यह एक संतुलित आहार स्रोत है। इसमें प्रोटीन, कैल्शियम, मैग्नीशियम, और फाइबर की अच्छी मात्रा होती है। कंगनी बाजरा खाद्य संगठनों के लिए उपयुक्त होता है और इसे विभिन्न व्यंजनों में शामिल किया जा सकता है, जैसे कि उपमा, खिचड़ी और पुलाव। इसका नियमित सेवन हड्डियों के लिए लाभकारी होता है, मजबूत इम्यून सिस्टम प्रदान करता है, और मानसिक स्वास्थ्य को सुधारता है।

13. ज्वार बाजरा (Sorghum Millet)

ज्वार बाजरा (Sorghum Millet) भारत में बहुत लोकप्रिय मिलेट है यह मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, और कर्नाटक में व्यापक रूप से उपजाया जाता है। ज्वार बाजरा में कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, और विटामिन की अच्छी मात्रा होती है। यह ग्लूटेन-मुक्त होता है, जिससे यह विभिन्न अलर्जी के मरीजों के लिए उपयुक्त होता है। ज्वार बाजरा शरीर के रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करता है, हृदय स्वास्थ्य को बढ़ाता है, और डायबिटीज को कंट्रोल करने में मदद करता है। और वजन घटाने में मदद करता है। यह रोटी, उपमा, और खिचड़ी में उपयोग किया जा सकता है।

14. समई बाजरा (Samai Millet)

समई बाजरा (Samai Millet) एक छोटा मिलेट है और इसे व्रतों और उपवासों के दौरान उपयोग किया जाता है। यह स्वस्थ आंत्र संरचना को बढ़ाता है, पेट को संतुलित रखता है, और मोटापे को कम करने में मदद करता है। समई बाजरा में फाइबर, प्रोटीन, आयरन, और कैल्शियम की अच्छी मात्रा होती है। इसे उपमा, पुलाव, और खिचड़ी के रूप में बनाया जा सकता है।

15. ज्वार बाजरा (Jowar Millet)

ज्वार बाजरा (Jowar Millet) हरे रंग का एक मिलेट है और इसे खाद्यान के रूप में उगाया जाता है। यह ग्लूटेन-मुक्त होता है और अन्य ग्रेन्स के साथ मिश्रित रूप में खाया जा सकता है। ज्वार बाजरा में आयरन, कैल्शियम, प्रोटीन, और विटामिन की अच्छी मात्रा होती है। इसका सेवन हड्डियों को मजबूत बनाता है, मस्तिष्क स्वास्थ्य को बढ़ाता है, और रक्त शर्करा को कम करने में मदद करता है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

1. मिलेट कितने प्रकार का होता है?
उत्तर: मिलेट कई प्रकार के होते है जिनमे से आप 15 के बारे में उप्पेर पढ़ सकते हो। 

2. मिलेट में कौन कौन से अनाज आते है?
उत्तर: मिलेट में विभिन्न प्रकार के अनाज आते हैं जैसे ज्वार, फिंगर बाजरा, सूडान बाजरा, कोदो बाजरा, फॉक्सटेल बाजरा और अमरनाथ बाजरा आदि। 

3. बाजरा के पांच प्रकार क्या हैं?
उत्तर: फिंगर बाजरा (रागी), ज्वार, बाजरा, फॉक्सटेल बाजरा और अमरनाथ बाजरा। 

4. मिलेट्स का हिंदी नाम क्या है?
उत्तर: मिलेट्स को हिंदी मे बाजरा कहते है

5. क्या मिलेट्स ग्लूटेन-मुक्त होते हैं?
उत्तर: हाँ, कुछ मिलेट्स ग्लूटेन-मुक्त होते हैं जैसे रागी और क्वीन मिलेट।

6. मिलेट्स के लाभ क्या हैं?
उत्तर: मिलेट्स में फाइबर, प्रोटीन, विटामिन, और मिनरल्स की अच्छी मात्रा होती है जो स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होती है।

7. मिलेट्स को कैसे खाएं?
उत्तर: मिलेट्स को दाल, रोटी, इडली, डोसा, पोहा, खिचड़ी, उपमा और ब्रेड जैसे विभिन्न व्यंजनों में शामिल किया जा सकता है।

8. मिलेट्स को अन्य शस्यों के साथ मिश्रित करने के लिए क्या तरीके हैं?
उत्तर: मिलेट्स को अन्य शस्यों के साथ मिश्रित करके आप उन्हें अधिक से अधिक पोषण मिला सकते हैं। इसके लिए आप इन्हें दाल, सब्जी या चावल के साथ मिला सकते हैं।

9. क्या मिलेट्स वजन कम करने में मदद कर सकते हैं?
उत्तर: हाँ, मिलेट्स में फाइबर की मात्रा होती है जो भोजन को अच्छी तरह से पचाने में मदद करती है और वजन कम करने में सहायता प्रदान करती है।

यह भी पढ़ें:- 

Pearl Millet in Hindi | बाजरा खाने के फायदे और नुकसान | Bajra in hindi

Little Millet in hindi | लिटिल मिलेट के फायदे और नुकसान | कुटकी (Kutki)

Barnyard millet in hindi | बार्नयार्ड मिलेट के फायदे, आंटा, खेती

Ragi in Hindi: रागी के फायदे, नुकसान, रेसिपी | Finger Millet Benefits, Side Effects and Recipe in Hindi

Foxtail Millet in hindi | कंगनी क्या है, इसके फायदे और नुकसान । Benefits and side effects of Foxtail Millet

Kodo Millet in Hindi | कोदो बाजरे के फायदे, नुकसान, रेसिपी और कोदो की खेती

Your May Also Like This