बेल का जूस बनाने के तरीका, बेल जूस के फायदे ! 

बिल्व, बेल या बेलपाथर, भारत का एक फलदार वृक्ष है। रोगों को नष्ट करने की क्षमता के कारण बेल को बिल्व कहा गया है। इसके अन्य नाम शांडिलरु (दर्द निवारक), श्री फाल, सदाफल आदि हैं। 

बेल का जूस या शरबत पीने से आप आलस महसूस नहीं करते हैं और एनर्जी जल्दी हमारे अंदर आ जाती है। इसमें भरपूर मात्रा में कैल्शियम, प्रोटीन और विटामिन होते हैं।

खासकर बेल का शरबत पेट के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसे बनाने में हमें लगभग 15 मिनिट का समय लगता है।

तो आइए जानते हैं बेल का शरबत कैसे बनाया (Bel Ka Juice Kaise Banaye) जाता है और इसे बनाने के लिए हमें किन-किन सामग्रियों की आवश्यकता होगी।

बेल का जूस बनाने के तरीका – Bel Ka Juice Kaise Banaye

इसमें मोजूद गूदे को बुल्वाकरकटी और सूखे गूदे को बेलगिरी कहा जाता है।

 बेल के पेड़ पूरे भारत में, विशेषकर हिमालय की तलहटी में, शुष्क पर्वतीय क्षेत्रों में 5000 फीट की ऊंचाई तक पाए जाते हैं।

 मध्य और दक्षिण भारत में बेल जंगल के रूप में फैली हुई पाई जाती है।

बेल का जूस बनाने की सामग्री:-

  • 1 बेल
  • 5 चम्मच चीनी
  • आधा चम्मच काला नमक
  • स्वादानुसार सफ़ेद नमक
  • भुना जीरा पाउडर

बेल का जूस बनाने की विधि:

  1. सबसे पहले बेल को तोड़कर उसका गूदा निकाल लें।
  2. किसी बर्तन में गूदे में थोड़ा सा पानी मिलकर अच्छी तरह से मिला लें।
  3. इसके बाद गूदे को दूसरे प्याले में छान लीजिए।
  4. फिर इसमें चीनी, काला नमक, सफेद नमक और भुना जीरा पाउडर डाल दीजिए। और फिर उसके अनुसार पानी डालें।
  5. फिर इसे गिलास में निकाल लें और इसमें कुछ बर्फ के टुकड़े डाल दें। और हमारी बेल की जूस बनकर तैयार है.

ओर पढ़ें: ग्रीन टी बनाने की विधि हिंदी में – How to Make Green Tea in Hindi

बेल जूस के फायदे – Bel Juice Benefits in Hindi

इसका जूस एक स्वस्थ भोजन का विकल्प है और इसे नाश्ते की स्मूदी के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। 

बेल फल का रस, लस्सी और अन्य पेय पदार्थों में प्राकृतिक स्वाद के रूप में लोकप्रिय रूप से उपयोग किया जाता है। 

भले ही लोग बेल का रस बनाने के लिए चीनी का इस्तेमाल करते है। परन्तु अगर आप इसका सही में फ़ायदे उधाने चाहते है तो चीनी का इस्तेमाल ना ही करें।

बेल एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन सी और आयरन, जिंक और कैल्शियम जैसे खनिजों का एक समृद्ध स्रोत है।

बेल का जूस पीने से आप निम्नलिखित फ़ायदे प्राप्त कर सकते है जो इस प्रकार है।

एंटीऑक्सीडेंट

बेल के रस के लाभ यह हैं कि यह प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाता है और इसमें उच्च एंटीऑक्सीडेंट सामग्री होती है। 

एंटीऑक्सिडेंट आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत रखने में मदद करते हैं और आपको कम थकान महसूस कराते हैं। 

ऊर्जा का बढ़ावा

बेल जूस एक अद्भुत पेय है जो आपको ऊर्जा का बढ़ावा देगा और इसका स्वाद बहुत अच्छा है! 

बेल के रस में ऐसे तत्व होते हैं जिनका उपयोग सदियों से प्रतिरक्षा प्रणाली को स्वाभाविक रूप से बढ़ावा देने और ऊर्जा देने के लिए किया जाता रहा है।

ओर पढ़ें: चेहरा सुंदर बनाने के घरेलु नुस्के !

स्वादिष्ट

बेल जूस में विटामिन और पोषक तत्वों के साथ-साथ हर्बल तत्व भी होते हैं।

यदि आप एक ऐसे पेय की तलाश कर रहे हैं जो आपको अच्छा और स्वादिष्ट लगे, तो बेल जूस का सेवन करें! 

बेल का रस स्थानीय दुकानों या वेब पर पाया जा सकता है।

खाली पेट बेल का जूस पीने के फायदे – Khali Pet Bel Ka Juice Peene Ke Fayde

बेल का जूस आप बिलकुल खाले पेट ना पिए। 

इसका सेवन करने से काफी अच्छी मात्रा में एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन सी, आयरन, जिंक और कैल्शियम जैसे खनिज पदार्थ का फ़ायदे मिलता है। 

पेट से सम्बन्धित समस्या से छुटकारा मिलता है जैसे कब्ज, गैस, एसिडिटी आदि।

ओर पढ़ें: संतरा खाने से क्या क्या फ़ायदे है ?

बेल का जूस कब पीना चाहिए – Bel Ka Juice Kab Peena Chahiye

वैसे बेल का जूस आप सुबह और दिन में ले सकते। चाहे आप इसे खाली पेट ले या या फिर खाने के 2-3 घंटे बाद। खाली पेट मतलब पेट में कुछ न कुछ जरुर खा ले।