तनाव (Stress) क्या और क्यों होता है? और इसके प्रबंधक क्या होते है?

Strees

तनाव यानी की “Stress”। यह भी हमारे शरीर की एक भावनात्मक प्रक्रिया है। ये प्रक्रिया (Process) शरीर में तब शुरू होती है जब हम किसी इंसान, वस्तू या किसी काम से आने वाले परिणामो को लेकर ज्यादा  सोचने लगते है। या हमे अपने जीवन में कुछ नई चीजों का सामना करना होता है आदि से कोई भी इस प्रक्रिया या  स्ट्रेस में आ सकता है।

भारत में एक सर्वे के अनुसार पाया गया। कि लगभग पूरी आबादी मे से 89% लोग तनाव Stress से जूझ रहे है और लगभग 75% लोगो को अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में कभी आराम ही नहीं मिलता। तनाव कितने प्रकार के होते है ? और आगे हम तनाव दूर करने के उपाय पर भी चर्चा करेंगे।

तनाव की परिभाषा और इसके कारण – Stress definition and it’s causes?

तनाव की परिभाषा – “तनाव” शरीर के द्वारा की गई एक प्रतिक्रिया है। जो किसी के भी द्वारा हो सकती है वस्तु या कोई भी इंसान। और तनाव हमेशा नकारात्मक नहीं होते। ये किसी सकारात्मक (Positive) गतिविधि से भी हो सकता है।

मानो की अपने कभी भी Presentation नहीं दी हो 30 या 40 लोगो के सामने और आपका शरीर उस होने वाली Presentation के प्रति एक प्रतिक्रिया कर रहा है जिसके कारण आप तनाव में आ जाते है। यह सोचकर की आपका वह दिन कैसा होगा और लोग क्या बोलेंगे ?

और भी कई कारणों से स्ट्रेस हो सकता है जिसे आप work Stress, exam Stress, chronic Stress, mental Stress के नाम से जानते होंगे।

तनाव(Tanav) के प्रकार। Types of Stress.

जैसे की मैंने आपको बताया। कि तनाव नकारात्मक (Negative) भी होते है और सकारात्मक (Positive) भी। जब किसी को तनाव या depression में होता है तो वो व्यक्ति चुप-चुप सा रहता है उस टाइम पर वे व्यक्ति काफी सोच में डूबा हुआ होता है। चलिए तनाव के प्रकार के बारे में बात करते है। तनाव के कई प्रकार हैं।

1. तीव्र तनाव :-

ये एक प्रकार का साधारण तनाव होता है। आप इसके नाम से ही समझ सकते है तीव्र यानी तेज़। जो तेजी से आता है और काफी काम समय के बाद चला भी जाता है। इस तनाव से व्यक्ति को ज्यादा परेशानी नहीं होती।

यह  शारीरिक और मानसिक रूप से  घातक नहीं होता। क्यूंकि यह कुछ टाइम तक ही रहता है और इसके बाद इंसान नॉर्मल हो जाता है।

2. चिर तनाव :-

चिर तनाव लम्बे समय तक रुकने वाला एक तनाव है। इस तनाव से कई प्रकार की Health Problems भी हो सकते है। चिर तनाव कई कारण से हो सकता है जैसे पैसो की दिक्कत , शादी में अर्चन, अपने बिज़नेस या जॉब से जोड़े काम को लेकर आदि। और Important बात इससे काफी गंभीर बीमारिया भी हो सकती है।

परन्तु, मैं उनका नाम नहीं लूंगा। किउंकि मैं नहीं चाहता। कि आप उन Problems के बारे में सोचकर अपना टाइम बर्बाद करे। अगर आप उसके बारे में सोचने लगेंगे तो  वो आपकी असल जिंदगी में हो सकता है। इसलिए आपको इसके सुझाव खोजते रहना चाहिए।

तनाव(Tanav) के प्रबधक या सुझाव। – What is Stress management?

जब भी तनाव दूर करने के उपाय, तनाव से मुक्ति या इससे बहार निकलने की बाद आती है तो मैं आपसे एक बाद कहना चाहूंगा। कि तनाव के नुकसान के बारे में ना सोचकर। आप इस प्रकार के लेखो को पढ़ा करें और लोगो से बात करा करें। ताकि आपको और सुझाव मिल सके।

अगर आप स्ट्रेस के बारे में बिल्कुल deep में पढना चाहते है तो Stress Wikipedia पर भी देख सकते है। वैसे मैं आपको इसके सुझावो के बारे बता ही रहा हूँ। और आप निचे दिए गए तरीको से अपने तनाव को दूर करना सीख सकते है। 

सोचने का तरीका:

आपको हमेशा सकारात्मक सोचना चाहिए। जो भी अपने जीवन में बुरा हुआ हो। उसको सोचकर समय बर्बाद न करें। सोचे की आगे मैं क्या कर सकता हूँ। अपने आप को खुश रखने की लिए।

आवश्यक चीजे:

अपने Daily Routine को बदले। Daily Morning Walk, Yoga, Gym या इससे मिलती – झूलती हुई किसी भी Health Activities में जाना शुरू करें। Meditation करें आदि।

Doctor की सलाह:

डॉक्टर से आप अपनी Stress problem के बारे में बात कर सकते है और सलाह ले सकते है ताकि आप इससे जल्दी निपट सके।

आराम टाइम:

आपको समय-समय पर अपने शरीर को आराम देना चाहिए। उसके लिए आप कम से कम 8 घंटे की नींद जरूर लें। और उठने के बाद योग, gym के लिए जाए।

Manage Time:

हमें अपने Time को हमेशा Manage करके चले। ताकि कोई Important काम ना छूट जाये। जिसकी वजह से आपको कोई तनाव न आय। और गेहरी सोच में ना पढना पड़े।

तो आपने जाना की Stress क्या होता है? और इसके प्रकार क्या होता है? इसके आलावा आपको यह भी पता चला की स्ट्रेस से कैसे बाहर निकल सकते है. उम्मीद करता हूँ, यह Information आपको अच्छी लगी होगी.

आपको यह लेख (Blog) कैसा लगा, Comment करके ज़रूर बताये. और इसे जरूरतमंद लोगो के साथ Share करना ना भूलें.

Share करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *